ऑरोफरीन्जियल कैंसर (सिर और नेक कैंसर) का इलाज | Oropharyngeal Cancer (Head and Neck Cancer) Treatment in Hindi

ऑरोफरीनक्स में नरम तालू, टॉन्सिल, जीभ का आधार और ऑरोफरीनगल की दीवार शामिल होती है।  HPV-16 इन्फेक्शन इस रोग के इलाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सबपर इलाज का अलग-अलग असर होने के कारण, एचपीवी-16 पॉज़िटिव बीमारी का इलाज एचपीवी-16 नेगेटिव बीमारी की तुलना में अलग तरीके से किया जाता है।

ऑरोफरीन्जियल कैंसर की टीएनएम स्टेजिंग | TNM Staging of Oropharyngeal Cancer in Hindi

अगर संकेतों और लक्षणों के कारण ऐसा लगता है कि व्यक्ति को ऑरोफरीन्जियल कैंसर है, तो रोग के इलाज की पुष्टि करने के लिए कुछ जांच आवश्यक है।

टीएनएम (TNM) स्टेजिंग ऑरोफरीन्जियल कैंसर में बहुत ज़्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला सिस्टम है। “T” का मतलब है “ट्यूमर का आकार”, “N” का मतलब है “लिम्फ नोड्स”, और “M” का मतलब है “मेटास्टेसिस”। T के बाद (1, 2, 3, 4a, और 4b), N के बाद (0, 1, 2, और 3) और M के बाद (0 और 1) लगने वाले नंबर और/या अक्षर इन कारकों की अधिक जानकारी देते हैं। एक बार जब टी, एन, और एम कैटेगरीज़ को विभिन्न इलाज के तरीकों से तय कर लिया जाता है, इस जानकारी को बीमारी की स्टेज (0 से IV तक) को समझने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

T स्टेजिंग (T Staging)

Tis – सीटू (carcinoma in situ) या कैंसर के घाव में कार्सिनोमा केवल ऑरोफरीनक्स की सतही (superficial) परत में मौजूद होता है।

 

T1 – ट्यूमर आकार में </ = 2 cm का है।

T1 – ट्यूमर आकार में </ = 2 cm का है

T2 – ट्यूमर आकार में >2 cm लेकिन </=4 cm है।

T2 – ट्यूमर आकार में >2 cm लेकिन </=4 cm है

 

T3 – ट्यूमर आकार में >4 cm है या एपिग्लॉटिस की लिंगीय सतह (lingual surface of the epiglottis) में जा चुका है।

T3 – ट्यूमर आकार में >4 cm है या एपिग्लॉटिस की लिंगीय सतह (lingual surface of the epiglottis) में जा चुका है।

T4a –  ट्यूमर पास के अंगों में आ चूका है, जैसे कि गला, कठोर तालु (hard palate) या जबड़ा (mandible)

stage T4a, invades tongue

 

T4a –  ट्यूमर पास के अंगों में आ चूका है, जैसे कि कठोर तालु

T4a –  ट्यूमर पास के अंगों में आ चूका है, जैसे कि गला

stage T4a, invades medial pterygoid muscle

T4a –  ट्यूमर पास के अंगों में आ चूका है, जैसे कि जबड़ा

 

T4b – ट्यूमर महत्वपूर्ण अंगों में आ चुका है, जैसे कि टेरिगॉइड प्लेटें (pterygoid plates), लेटरल नासोफरीनक्स (lateral nasopharynx), या खोपड़ी का आधार (base of skull) और/या कैरोटिड धमनी (carotid artery) के चारो तरफ

stage T4a, invades medial pterygoid muscle

T4b – ट्यूमर महत्वपूर्ण अंगों में आ चुका है, जैसे कि खोपड़ी का आधार

T4b – ट्यूमर महत्वपूर्ण अंगों में आ चुका है, जैसे कि टेरिगॉइड प्लेटें, और/या कैरोटिड धमनी के चारो तरफ

N स्टेजिंग (N Staging)

N0 – पास के लिम्फ नोड्स में ट्यूमर नहीं फैला है।

 

N1 – रोग एक इप्सिलैटरल (ipsilateral) लिम्फ नोड तक फ़ैल चुका है जिसका आकार </=3 cm है।

N1 – रोग एक इप्सिलैटरल (ipsilateral) लिम्फ नोड तक फ़ैल चुका है जिसका आकार </=3 cm है

N2a – रोग एक इप्सिलैटरल (ipsilateral) लिम्फ नोड तक फ़ैल चुका है जिसका आकार >3 cm और </= 6 cm तक है

N2a – रोग एक इप्सिलैटरल (ipsilateral) लिम्फ नोड तक फ़ैल चुका है जिसका आकार >3 cm और </= 6 cm तक है

N2bकई इप्सिलैटरल (ipsilateral) नोड्स के मेटास्टेसिस, <6 cm

N2b – कई इप्सिलैटरल (ipsilateral) नोड्स के मेटास्टेसिस, <6 cm

N2cद्विपक्षीय/प्रतिपक्षी (bilateral/contralateral) लिम्फ नोड्स के मेटास्टेसिस, सभी अकार में <6 cm

2c – द्विपक्षीय/प्रतिपक्षी (bilateral/contralateral) लिम्फ नोड्स के मेटास्टेसिस, सभी अकार में <6 cm

N3 – रोग लिम्फ नोड्स तक फ़ैल चुका है जिसका आकर >6 cm या स्पष्ट एक्सट्रानॉडल (extranodal) शामिल है

N3 – रोग लिम्फ नोड्स तक फ़ैल चुका है जिसका आकर >6 cm

N3 – रोग लिम्फ नोड्स तक फ़ैल चुका है एक्सट्रानॉडल (extranodal) है

M स्टेजिंग (M Staging)

M0 – दूर के हिस्सों में कोई फैलाव नहीं हुआ है।

M1 – रोग दूर के हिस्सों में फैल गया है।

ऑरोफरीन्जियल कैंसर स्टेजिंग का संक्षिप्त विवरण | Oropharyngeal Cancer Staging Summary

 

स्टे TNM
0 Tis N0 M0
I T1 N0 M0
II T2 N0 M0
III T3 N0 M0
T1-3 N1 M0
IVA T1-3 N2 M0
T4a N0-2 M0
IVB कोई भी T N3 M0
T4b कोई भी N M0
IVC कोई भी T कोई भी N M1

 

स्टेजिंग के अनुसार ऑरोफरीन्जियल कैंसर का इलाज | Oropharyngeal Cancer Treatment based on Staging in Hindi

रोग की स्टेज के अलावा, इलाज चुनना आमतौर पर रोग के स्थान, रोगी की राय, रोगी की स्थिति के साथ अन्य कारकों पर निर्भर करता है। ऑरोफरीन्जियल कैंसर की विभिन्न स्टेजों के लिए बेहतर इलाज निम्नलिखित हैं, लेकिन अंतिम निर्णय रोगी के इलाज के मूल्यांकन के बाद ऑन्कोलॉजिस्ट द्वारा लिया जाता है।

स्टेज 0 (Stage 0)

स्टेज 0 कैंसर के लिए, शामिल जगह के सर्जरी (surgery) करके इलाज को बेहतर तरीका माना जाता है। रोग दुबारा होने के संकेतों के लिए इलाज के बाद रोगी को अपनी जांच करवाते रहना चाहिए।

स्टेज I and II (Stage I and II)

स्टेज I और II के कैंसर के लिए, रेडियोथेरेपी (radiotherapy) को बेहतर इलाज माना जाता है।

स्टेज III to IVB (Stage III to IVB)

स्टेज III से IVB कैंसर के लिए, रेडियोथेरेपी (radiotherapy) और कीमोथेरेपी (chemotherapy) या टार्गेटेड थेरेपी (targeted therapy) का जोड़ आमतौर पर प्राथमिक इलाज की तरह दिया जाता है।

स्टेज IVC (Stage IVC)

स्टेज IVC कैंसर के लिए, कीमोथेरेपी (chemotherapy), इम्यूनोथेरेपी (immunotherapy) या टार्गेटेड थेरेपी (targeted therapy) इलाज के विकल्प हैं। रेडिएशन थेरेपी को पैलिएटिव ट्रीटमेंट (दोष घटानेवाले इलाज) के रूप में दिया जा सकता है।

 

पैलिएटिव ट्रीटमेंट (दोष घटानेवाला इलाज) | Palliative Treatment

इससे ऑरोफरीन्जियल कैंसर और इसके इलाज से होने वाली दिक्कतों में राहत और लक्षणों में राहत मिलती है जिससे ज़िन्दगी की गुणवत्ता सुधारने में मदद मिल सकती है। इसे दूसरे इलाजों के साथ आम तौर पर बड़ी स्टेज के ऑरोफरीन्जियल कैंसर में राहत के लिए दिया जाता है। इसमें शामिल हो सकता है: दर्द और अन्य लक्षणों को काम करने की दवाएं जैसे उल्टी, थकान; पोषण या साँसों को सहारा देने के लिए गैस्ट्रोस्टोमी या ट्रेकियोस्टोमी जैसी सर्जरी से होने वाली दिक्कतें; बोली, निगलने और मौखिक स्वच्छता से संबंधित समस्याओं के लिए सहायता और राय; और दर्द, रक्तस्राव, अवरोधक समस्याओं आदि को दूर करने के लिए रेडिएशन थेरेपी।

इलाज का फैसला करने से पहले हर इलाज की लाभ और हानि और बाद में होने वाली दिक्कतों को समझना बहुत ज़रूरी है। कभी-कभी मरीज़ की पसंद और सेहत भी इलाज को चुनने में बहुत महत्त्वपूर्ण होते हैं।

 

ऑरोफरीन्जियल कैंसर के इलाज के बुनियादी लक्ष्य निम्नलिखित हैं:

ज़िन्दगी लम्बी करना।

लक्षणों को काम करना।

ज़िन्दगी की गुणवत्ता में सुधार लाना।

Posts created 29

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top