प्रोस्टेट कैंसर का इलाज | Prostate Cancer Treatment in Hindi

अगर किसी को प्रोस्टेट कैंसर होने के कोई संकेत या लक्षण दिखाई दें, तो रोग की पहचान के लिए कुछ जांच की जानी ज़रूरी हैं और इससे रोग की स्टेज जानकार इसका उचित इलाज किया जा सकता है।

प्रोस्टेट कैंसर का इलाज कई बातों पर निर्भर करता है जैसे रोग की स्टेज, जीवन प्रत्याशा/life expectancy, कोमोर्बिडिटीज़ (comorbidities), रोग की निर्धारित स्टेज और अन्य कारक। इसके और भी कारक हो सकते हैं।

Table of Contents

प्रोस्टेट कैंसर का प्राकृतिक इतिहास | Natural History of Prostate Cancer

यह प्रोस्टेट कैंसर का प्राकृतिक इतिहास/natural history है। जैसा कि आप चित्र में देख सकते हैं, कि यह बहुत धीमी गति से बढ़ता है और रोगी निदान के बाद वर्षों तक जीवित रह सकता है।

 

प्रोस्टेट कैंसर का प्राकृतिक इतिहास | Natural History of Prostate Cancer

 

पहला शिखर/first peak स्थानीयकृत बीमारी/localized disease से संबंधित होता है और ज्यादातर मामलों में इसका लोकल थेरेपी/local therapy से इलाज किया जाता है। हम इस पर बाद में विस्तार से चर्चा करेंगे

दूसरा शिखर लोकल थेरेपी/local therapy के बाद दुबारा होने या मेटास्टैटिक रोग/metastatic disease से संबंधित है। इसका इलाज लोकल या प्रणालीगत थेरेपी/systemic therapy से किया जाता है।

तीसरा शिखर कैटरेट-प्रतिरोधी/castrate-resistant प्रोस्टेट कैंसर के साथ संबंधित होता है, जिसका मतलब है कि हार्मोनल थेरेपी से रोग बढ़ गया है। इसका इलाज आमतौर पर कीमोथेरेपी से किया जाता है लेकिन अन्य एजेंटों को भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्रोस्टेट कैंसर के लिए एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी | Androgen Deprivation Therapy for Prostate Cancer

अगले इलाज का तरीका एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy है। इसके लिए, हमें पहले हार्मोनल अक्ष/hormonal axis को समझना होगा जिससे टेस्टोस्टेरोन रिलीज/testosterone release होता है।

 

प्रोस्टेट कैंसर के लिए एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी | Androgen Deprivation Therapy for Prostate Cancer

 

पिट्यूटरी ग्रंथि/pituitary gland LH और FSH छोड़ती है, जो सीधे वृषण/testis पर टेस्टोस्टेरोन/testosterone रिलीज करने का काम करती है।

पिट्यूटरी ग्रंथि/pituitary gland से निकलने वाली ACTH अधिवृक्क ग्रंथि/adrenal gland पर कार्य करती है जिससे DHEA को निकलता है, जो बाद में टेस्टोस्टेरोन/testosterone में परिवर्तित हो जाता है।

वृषण/testis और अधिवृक्क ग्रंथि/adrenal gland से निकला टेस्टोस्टेरोन/testosterone प्रोस्टेट सेल/prostate cell में प्रवेश करता है और DHT में परिवर्तित हो जाता है जो प्रोस्टेट कैंसर सेल के विकास और फैलाव का कारण बनता है।

हम प्रोस्टेट कैंसर सेल पर टेस्टोस्टेरोन/testosterone के हमले को कम करने के लिए इस रास्ते को रोक सकते हैं। GnRH एगोनिस्ट/agonists या प्रतिपक्षी/antagonists पिट्यूटरी ग्रंथि/pituitary gland से LH, FSH, और ACTH निकलना रोकते हैं।

 

GnRH एगोनिस्ट/agonists या प्रतिपक्षी/antagonists पिट्यूटरी ग्रंथि/pituitary gland से LH, FSH, और ACTH निकलना रोकते हैं।

 

फिर साइटोक्रोम/cytochrome 17P इनहिबिटरस आते हैं जो वृषण/testis और अधिवृक्क ग्रंथि/adrenal gland से टेस्टोस्टेरोन/testosterone का निकलना रोकते हैं।

 

साइटोक्रोम/cytochrome 17P इनहिबिटरस जो वृषण/testis और अधिवृक्क ग्रंथि/adrenal gland से टेस्टोस्टेरोन/testosterone का निकलना रोकते हैं।

 

और आख़िरकार, एण्ड्रोजन रिसेप्टर ब्लॉकर्स/androgen receptor blockers आते हैं जो प्रोस्टेट कैंसर सेल में टेस्टोस्टेरोन/testosterone को जमा होने से रोकते हैं, जिससे इसका हमला रोका जा सकता है।

 

एण्ड्रोजन रिसेप्टर ब्लॉकर्स/androgen receptor blockers जो प्रोस्टेट कैंसर सेल में टेस्टोस्टेरोन/testosterone को जमा होने से रोकते हैं

एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन/Androgen Deprivation का दूसरा तरीक़ा सर्जिकल कास्ट्रेशन/surgical castration है जिसमें दोनों वृषणों/testes को हटा दिया जाता है। चिकित्सा निर्माण के विपरीत, यह एक बार की जाने वाली प्रक्रिया है।

प्रोस्टेट कैंसर की विभिन्न स्टेजों का इलाज | Treatment for different Stages of Prostate Cancer in Hindi

बहुत कम से कम-ख़तरे वाला रोग/Very Low to Low-Risk Disease

T1a-2 N0 M0, PSA<10, GG=1

ऐसे मामलों में सक्रिय निगरानी सबसे अच्छा विचार है। रोग बढ़ने के किसी भी संकेत के लिए रोगी की जाँच समय-समय पर की जानी चाहिए। आमतौर पर इसके लिए किसी और इलाज की राय नहीं दी जाती है।

मध्यवर्ती-ख़तरे वाला रोग/Intermediate-Risk Disease

T2b-2c N0 M0 PSA<20 GG=1  TO  T1-2 N0 M0 PSA<20 GG=3-4

अन्य समस्याओं वाले बुजुर्ग रोगियों के लिए और ख़ास तौर पर जिनकी जीवन प्रत्याशा/life expectancy 10 वर्ष से कम है, उनके लिए सक्रिय निगरानी को इलाज का प्राथमिक तरीका माना जाता है।

जिन युवा रोगियों को कोई और स्वास्थ्य ना हो, उनके लिए आम तौर पर रेडीकल प्रोस्टेटक्टॉमी/radical prostatectomy (प्रोस्टेट ग्रंथि के सर्जरी करके निकालना) और/या रेडियोथेरेपी की राय दी जाती है।

उच्च PSA स्तर या उच्च ग्रेड समूह के मामले में, रोग दुबारा होने से रोकने के लिए एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy भी दी जा सकती है।

बड़े ख़तरे वाला रोग/High-Risk Disease

T1-2 N0 M0 PSA>/=20 GG=1-4 TO कोई भी T N0 M0 Any PSA GG=5

एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy के साथ रेडियोथेरेपी को प्राथमिक इलाज माना जाता है।

पैल्विक लिम्फ नोड्स/pelvic lymph nodes को हटाने के बाद रेडीकल प्रोस्टेटक्टॉमी/radical prostatectomy और रेडियोथेरेपी भी दी जा सकती है।

अगर रोगी बुजुर्ग हो, तो आम तौर पर कम तीव्रता का इलाज किया जाता है। ऐसे रोगियों का इलाज अकेले एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy से किया जा सकता है या अगर जीवन प्रत्याशा/life expectancy बहुत कम है तो सक्रिय निगरानी भी की जा सकती है।

मेटास्टेटिक रोग/Metastatic Disease

हड्डियों तक सीमित फैलाव वाला कम मात्रा स्टेज IV के रोग का इलाज प्राथमिक रूप से रेडियोथेरेपी के साथ या बिना एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy से किया जा सकता है।

दूर के अंगों तक फैलाव वाला बड़ी मात्रा स्टेज IV के रोग का इलाज करने के लिए, कीमोथेरेपी के साथ एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy को प्राथमिक इलाज माना जाता है।

रक्तस्राव और मूत्र बाधा के लिए प्रोस्टेट (TURP) के ट्रांसयूरिथेरल अलगाव/transurethral resection या हड्डी दर्द/रोग को संभालने के लिए बिस्फॉस्फेटेट/bisphosphonate/रेडियोफार्मास्युटिकल/radiopharmaceutical इलाज जैसी पैलिएटिव थेरेपी ज़रूरत पड़ने पर दी जा सकती है।

प्रोस्टेट कैंसर के इलाज में रेडियोफार्मास्युटिकल्स की भूमिका | Role of Radiopharmaceuticals in the treatment of Prostate cancer

बोन मेटास्टेसिस की वजह से दर्द के इलाज के लिए विभिन्न रेडियोफार्मास्यूटिकल्स/radiopharmaceuticals (जैसे रेडियम/Radium-223, स्ट्रोंटियम/Strontium-89 और सैमियम/Samarium-153) का इस्तेमाल किया जाता है, जो आमतौर पर बड़ी-स्टेज के प्रोस्टेट कैंसर के मामले में होता है।

रेडियम/Radium-223

यह एक अल्फा कण-उत्सर्जक रेडियोधर्मी एजेंट/particle-emitting radioactive agent है, जो अधिकतर कैल्शियम के साथ अपनी रासायनिक समानता की वजह से मेटास्टेटिक हड्डी के घावों/metastatic bone lesions के भीतर तेजी से बढ़ते हड्डी के सेल द्वारा लिया जाता है। मेटास्टेटिक हड्डी के घावों/metastatic bone lesions के अंदर, Ra-223 अल्फा-किरणों/alpha-rays का उत्सर्जन करके और डबल-स्ट्रैंड/double-strand DNA अलगाव को शुरू करके कैंसर सेल को मारता है। इस प्रकार, Ra-223 का हड्डी मेटास्टेस/bone metastases, जो प्रोस्टेट कैंसर के परिणामस्वरूप बनता है, के खिलाफ एक विशिष्ट काम है और यह CRPC और हड्डी मेटास्टेसिस/bone metastasis के रोगियों के बचने की उम्मीद को बढ़ाने में मदद करता है।

यह रोगसूचक हड्डी मेटास्टेस/symptomatic bone metastases और अज्ञात आंत मेटास्टेसिस/no known visceral metastases वाले रोगियों में मेटास्टेटिक CRPC के इलाज के लिए स्वीकृत किया गया है। इसे मेटास्टेटिक CRPC के इलाज के लिए स्वीकृत माध्यमिक हार्मोनल थेरेपी/secondary hormonal therapy की दवाओं के साथ सुरक्षित रूप से जोड़ा जा सकता है, जैसे abiraterone या enzalutamide।

स्ट्रोंटियम/Strontium-89 (89Sr) और Samarium/समैरियम-153 (153Sm)

यह बीटा-उत्सर्जक रेडियोफार्मास्युटिकल्स/beta-emitting radiopharmaceuticals हैं जो विशेष रूप से प्रोस्टेट कैंसर में हड्डी मेटास्टेसिस/bone metastases को टार्गेट करते हैं। बीटा-उत्सर्जक में Ra-223 जैसी बचाने की क्षमता नहीं होती है, लेकिन इसका इस्तेमाल बहुत ज़्यादा फैले हड्डी मेटास्टेसिस/bone metastases के साथ जुड़े दर्द को ठीक करने के लिए किया जा सकता है।

मल्टीफ़ोकल हड्डी के दर्द/multifocal bone pain वाले रोगियों को और जिन्हें कीमोथेरेपी नहीं दी जा सकती उनके लिए यह एजेंट अन्य इलाजों की तुलना में न्यूनतम दुष्प्रभाव के साथ दर्द से ज़रूरी राहत प्रदान करते हैं।

नपुंसक प्रतिरोधी प्रोस्टेट कैंसर का इलाज | Castrate Resistant Prostate Cancer Treatment in Hindi

एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy शुरू करने के कुछ वर्षों के बाद, PSA बढ़ना शुरू हो सकता है, या स्कैन में रोग की प्रगति दिख सकती है। इस अवस्था को कैटरेट-प्रतिरोधी/castrate-resistant प्रोस्टेट कैंसर कहा जाता है।

अगर रोगी को स्थानीयकृत/localized CRPC है, तो इसके लिए देख-रेख या पहले इस्तेमाल किए गए अलग एजेंट के साथ एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy इलाज के विकल्प है।

और मेटास्टैटिक CRPC के लिए, तो इसके लिए एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy, कीमोथेरेपी, कैंसर की दवाएँ, हड्डी-निर्देशित थेरेपी/bone-directed therapy इलाज के विकल्प है।

CRPC ऐसी बीमारी है जो GnRH एनालॉग्स पर बढ़ी है, इसलिए नॉन-GnRH एनालॉग्स को इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जैसे कि एण्ड्रोजन रिसेप्टर ब्लॉकर्स/androgen receptor blockers या 17 हाइड्रॉक्सिलेज़ इनहिबिटर/hydroxylase inhibitors।

दुबारा होने वाले प्रोस्टेट कैंसर का इलाज | Recurrent Prostate Cancer Treatment

सर्जरी के बाद दुबारा होना PSA जड़ता के रूप में हो सकता है, जिसका मतलब सामान्य होने में विफलता है, या PSA का दुबारा होना, इसका मतलब, पहले जाँच में ना आकर फिर बड़ जाना।

और रेडिएशन थेरेपी के बाद दुबारा होना PSA या पोज़िटिव DRE में वृद्धि के रूप में हो सकता है।

स्थानीयकृत रूप से दुबारा होने/localized recurrence के लिए, देख-रेख करना इलाज विकल्प है, अगर शुरू में रेडियोथेरेपी से इलाज हुआ हो तो सर्जरी की जा सकती है, अगर शुरू में सर्जरी और एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy से इलाज किया गया हो तो रेडियोथेरेपी से इलाज किया जा सकता है।

और मेटास्टैटिक रूप से दुबारा होने/metastatic recurrence के लिए, एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy प्राथमिक इलाज है।

जो रोगी सीधे मेटास्टैटिक रोग के साथ आते हैं, उनका इलाज सीधे हार्मोनल थेरेपी से किया जाता है और कुछ ऐसे रोगियों में कीमोथेरेपी जोड़ी जा सकती है जो बड़ी मात्रा के रोग के साथ आते हैं।

जब हम स्थानीय चिकित्सा/local therapy के बाद पहली बार एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी/Androgen Deprivation Therapy को स्थानीयकृत, मेटास्टेटिक या दुबारा होने के मामले में इस्तेमाल करते हैं, यह मेडिकल या सर्जिकल कास्ट्रेशन/surgical castration के रूप में हो सकता है।

GnRH एगोनिस्ट/agonists या प्रतिपक्षी/antagonists को मेडिकल कैस्ट्रेशन के लिए, और सर्जिकल कास्ट्रेशन/surgical castration के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जहाँ दोनों वृषणों/testes को हटा दिया जाता है, जिसे द्विपक्षीय ऑर्किएक्टोमी/bilateral orchiectomy कहा जाता है।

Posts created 29

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top